प्राचीनवंशावली

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

यादवकुलम्

मनुः  · इला  · पुरूरवाः  · आयुः  · नहुषः  · ययातिः  · यदुः  · क्रोष्टुः  · वृजिनिवान्  · स्वाहिः  · रुशद्गुः  · चित्ररथः  · शशबिन्दुः  · पृथुश्रवः  · अन्तरः  · सुयज्ञः  · उशीनरः  · शिनेयुः  · मरुत्  · कम्बलबर्हिः  ·रुक्मकवचः  · परावृत्  · ज्यामघः  · विदर्भः  · क्रथभीमः  · कुन्तिभोजः  · धृष्टः  · निर्वृतिः  · विदूरथः  · दशार्हः  · व्योमन्  · जीमूतः  · विकृतिः  · भीमरथः  · रथवरः  · दशरथः  · एकादशरथः  · शकुनिः  · करम्भ · देवरातः  · देवक्षत्रः  · देवनः  · मधुः  · पुरुवशः  · पुरुद्वन्तः  · जन्तु  · सत्वन्तः  · भीमसेनः  · अन्धकः  · कुकुरः  · वृष्णि  · कपोतरोमनः  · विलोमी  · नल  · अभिजित्  · पुनर्वसु  · उग्रसेन  · कंस  · कृष्ण  ·शाम्ब

पौरवकुलम्

मनु  · इला  · पुरुरवस्  · आयु  · नहुष  · ययाति  · पूरु  · जनमेजय  · प्राचीन्वन्त्  · प्रवीर  · मनस्यु  · अभयद  · सुधन्वन्  · बहुगव  · संयति  · अहंयाति  · रौद्राश्व  · ऋचेयु  · मतिनार  · तंसु  · दुष्यन्त  · भरत · भरद्वाज  · वितथ  · भुवमन्यु  · बृहत्क्षत्र  · सुहोत्र  · हस्तिन्  · अजमीढ  · नील  · सुशान्ति  · पुरुजानु  · ऋक्ष  · भृम्यश्व  · मुद्गल  · ब्रह्मिष्ठ  · वध्र्यश्व  · दिवोदास  · मित्रयु  · मैत्रेय  · सृञ्जय  · च्यवन  · सुदास  ·संवरण  · सोमक  · कुरु  · परीक्षित  · जनमेजय  · भीमसेन  · विदूरथ  · सार्वभौम  · जयत्सेन  · अराधिन  · महाभौम  · अयुतायुस्  · अक्रोधन  · देवातिथि  · ऋक्ष २  · भीमसेन  · दिलीप  · प्रतीप  · शन्तनु  ·भीष्म  · विचित्रवीर्य  · धृतराष्ट्र  · पाण्डव  · अभिमन्यु

अयोध्याकुलम्

मनु  · इक्ष्वाकु  · विकुक्षि-शशाद  · कुकुत्स्थ  · अनेनस्  · पृथु  · विष्टराश्व  · आर्द्र  · युवनाश्व  · श्रावस्त  · बृहदश्व  · कुवलाश्व  · दृढाश्व  · प्रमोद  · हरयश्व  · निकुम्भ  · संहताश्व  · अकृशाश्व  · प्रसेनजित्  · युवनाश्व २  · मान्धातृ  · पुरुकुत्स  · त्रसदस्यु  · सम्भूत  · अनरण्य  · त्रसदश्व  · हरयाश्व २  · वसुमत  · त्रिधनवन्  · त्रय्यारुण  · सत्यव्रत  · हरिश्चन्द्र  · रोहित  · हरित  · विजय  · रुरुक  · वृक  · बाहु  · सगर  · असमञ्जस् · अंशुमन्त्  · दिलीप १  · भगीरथ  · श्रुत  · नाभाग  · अम्बरीषः  · सिन्धुद्वीप  · अयुतायुस्  · ऋतुपर्ण  · सर्वकाम  · सुदास  · मित्रसह  · अश्मक  · मूलक  · शतरथ  · ऐडविड  · विश्वसह १  · दिलीप २  · दीर्घबाहु  ·रघु  · अज  · दशरथ  · राम  · कुश  · अतिथि  · निषध  · नल  · नभस्  · पुण्डरीक  · क्षेमधन्वन्  · देवानीक  · अहीनगु  · पारिपात्र  · बल  · उक्थ  · वज्रनाभ  · शङ्खन्  · व्युषिताश्व  · विश्वसह २  · हिरण्याभ  ·पुष्य  · ध्रुवसन्धि  · सुदर्शन  · अग्निवर्ण  · शीघ्र  · मरु  · प्रसुश्रुत  · सुसन्धि  · अमर्ष  · विश्रुतवन्त्  · बृहद्बल  · बृहत्क्षय

अन्यराजाः

दिवोदास (काशी)  · दुर्दम (हैहय)  · केकय (आनव)  · गाधी (कान्यकुब्ज)  · अर्जुन (हैहय)  · विश्वामित्र (कान्यकुब्ज)  · तालजङ्घ (हैहय)  · प्रचेतस् (द्रुह्यु)  · सुचेतस् (द्रुह्यु)  · सुदेव (काशी)  · दिवोदास २ (काशी)  ·बलि (आनव)

प्रवेश पटलं

वार्ताः


  • ब्राम्हण का भारत में योगदान

    : ऊँ ब्राह्मण निर्धन होगा तो बनेगा " सुदामा " फिर एक दिन "श्री कृष्ण" उसकी सेवा करेंगे ! ब्राह्मण अपमानित होगा तो बनेगा " चाणक्य " फिर एक दिन नये राज्य कि स्थापना कर देगा ! ब्राह्मण सठिया जायेगा तो बनेगा " परशुराम " फिर ए...
  • गरुण पुराण के कथन

    मरने के बाद क्या होता है , श्री गरुण पुराण कि यह बात -.- मृत्यु एक ऐसा सच है जिसे कोई भी झुठला नहीं सकता । मृत्यु के बाद जीवात्मा यमलोक तक किस प्रकार जाती है, इसका विस्तृत वर्णन है। किस प्रकार मनुष्य के प्राण निकलते हैं औ...
  • इच्छाओं एवम् आवश्यकताओं में भेद

    इच्छाओं और आवश्यकताओं के भेद काम एष क्रोध एष रजोगुणसमुद्भवः। महाशनो महापाप्मा विद्धयेनमिह वैरिणम्‌॥ 37 धूमेनाव्रियते वह्निर्यथादर्शो मलेन च। यथोल्बेनावृतो गर्भस्तथा तेनेदमावृतम्‌॥ 38 रजोगुण से उत्पन्न होने वाली इच्छायें (...
  • गाय सब की मां जानें कैसे

    "आवश्यक सन्देश" "सुप्रीम कोर्ट के मुक़द्दमे मे कसाईयो द्वारा गाय काटने के लिए वही सारे कुतर्क रखे गए जो कभी शरद पवार द्वारा बोले गए या इस देश के ज्यादा पढ़ें लिखे लोगो द्वारा बोले जाते है या देश के पहले प्रधान मंत्री नेहर...
  • उज्जैन के पास स्थति भरथरी की गुफा

    उज्जैन में भरथरी की गुफा स्थित है। इसके संबंध में यह माना जाता है कि यहां भरथरी ने तपस्या की थी। यह गुफा शहर से बाहर एक सुनसान इलाके में है। गुफा के पास ही शिप्रा नदी बह रही है। गुफा के अंदर जाने का रास्ता काफी छोटा है। ज...
  • शिवजी के १९ अवतार

    भगवान शिव के 19 अवतार शिव महापुराण में भगवान शिव के अनेक अवतारों का वर्णन मिलता है, 1- पिप्पलाद अवतार :- मानव जीवन में भगवान शिव के पिप्पलाद अवतार का बड़ा महत्व है। शनि पीड़ा का निवारण पिप्पलाद की कृपा से ही संभव हो सका।...
  • दुर्गा चालीसा मूल पाठ

    : दुर्गा चालीसा ==मूल पाठ== नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥१॥ निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥२॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥३॥ रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत ज...
श्री भवानी अष्टकम

 ॥**अन्नकूट महोत्सव की ह्रदय से हार्दिक शुभकामनाएं*

*श्री भ [ ... ]

अधिकम् पठतु
भगवान धनवंतरि कौन

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वन्त [ ... ]

अधिकम् पठतु
सप्तशती विवेचन

|| सप्तशती विवेचन ||
मेरुतंत्र में व्यास द्वारा कथित तीनो च [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस २०१७ विशेष

धनतेरस 2017 :-
यह पर्व प्रति वर्ष कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की  [ ... ]

अधिकम् पठतु
दीपावली के अचूक मंत्र...

🌻🌻दीपावली के अचूक मन्त्र 🌻🌻
दीपावली कि रात्रि जागरण कि  [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं- जानें धनतेरस पूजन वि...

©*धनतेरस पूजन विधि*
( घर में धन धान्य वृद्धि और सुख शांति के  [ ... ]

अधिकम् पठतु
उपमालङ्कारः

उपमालङ्कारस्तु एकः अर्थालङ्कारः वर्तते । 'उपमा कालिदासस [ ... ]

अधिकम् पठतु
रावणः

रावणः ( ( शृणु) (/ˈrɑːvənəhə/)) (हिन्दी: रावन, आङ्ग्ल: Ravan) रामायणस्य म [ ... ]

अधिकम् पठतु
शारदा देवी मंदिर

शारदा देवी मंदिर मध्य प्रदेश के सतना ज़िले में मैहर शहर म [ ... ]

अधिकम् पठतु
विंध्यवासिनी का इतिहास...

🔱जय माँ विंध्यवासिनी🔱* *विंध्यवासिनी का इतिहास* *भगवती  [ ... ]

अधिकम् पठतु
हकीकतरायः

हकीकतरायः कश्चन स्वतन्त्रसेनानी बालकः आसीत्, यः मुस्लिम [ ... ]

अधिकम् पठतु
भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (ISRO)...

भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (इसरो, आङ्ग्ल: Indian Space Res [ ... ]

अधिकम् पठतु
ऐतरेयोपनिषत्

ऐतरेयोपनिषत् (Aitareyopanishat) ऋग्वेदस्य ऐतरेयारण्यके अन्तर्गता  [ ... ]

अधिकम् पठतु
आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

Swaha आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

स्वाहा का म [ ... ]

अधिकम् पठतु
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवसर...

Importance of rakhi
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवस [ ... ]

अधिकम् पठतु
अन्य लेख