प्रस्तावना

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

 देववाणी विकास समूह रीवा म.प्र.

 

हमारी संस्कृत व ऊसका परिचय  जानने हेतु क्लिक करें

हमारे समूह में आप भी जुडकर देववाणी व देश का समुचित विकास व विश्वगुरू के लोकोक्ती सत्य कर अपना ज्ञान संसार में बांट कर आप गुरू व भारत को विश्व गुरू बनाने में सहयोग करे हम आपकी विद्या को सादर सम्मान के साथ जन-जन तक पहुचानें में मद्द करेंगें ।आप अपना कोई भी लेख ई-मेल द्वारा ही भेजिये व  आपकी इच्छानुसार आप अपनी फोटो व पूरा पता भेजकर अपना नाम भी प्रकाशित करवा सकते है ।

यह बेबसाइट संस्कृत भाषा के संगणकीय विकास हेतु बनाई गई है इसका नामकरण देववाणी इसीलिये रखा गया है

नोट- शिर्फ हिंदी और संस्कृत  दस्तावेज ही मान्य होंगे व किसी भी गैरकानूनी कंटेट रखवाने पर आप पर कार्यवाही की जा सकती है ।इसके लिये हम व हमारा ग्रुप जिम्मेदार नही होगा अतः आपसे विनम्र निवेदन है की इस बात को ध्यान में रखें । ज्यादा जानकारी के लिये यंहा पढें।Image descriptionProfessional Help

यदि आप अपनी विडियो व संस्कृत किताब हमारे माध्यम से इस साइट पर बेचना चाहते होतो संपर्क करे १ साल तक बिना किसी शुल्क के ये सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी और आपका दस्तावेज पूरी संभावित सुरक्षा के साथ यंहा रखी जायेगी ।

यह वेबसाइट १३ अगस्त २०१३ से पहले ८ नवंबर २०१२ में www.vindhyanchal.in के एक खंड के रूप में विकसित की गई थी बाद में इसको अधिकारिक रूप से www.devwani.in पर हास्टगाटर कंपनी की मद्द से प्रकाशित किया गया बाद में ये साल २०१४ में इसे ये प्रारूप devwani.org पर मिला।

कुछ पुरानी यादें
  
मेरी वेबसाइट vindhyanchal.in पर पहला संस्कृत लेख १३ अगस्त २०१२ को माता विंध्यवासिनी पर लिखा गया श्लोक और व्याख्या था बाद मे १४ अगस्त २०१२ को स्वतंत्रता दिवस पर लिखा गया था। तब ये पहली संस्कृत खंड इस वेबसाइट के संस्कृत संस्करण में बनाया गया था।और अगस्त २०१३ में देववाणी नाम से अधिकारिक नाम पर पब्लिश किया गया तब ये दुनिया की पहली संस्कृत वेबसाइट थी जो देवनागरी में लिखी गई थी और आज पहली ऐसी वेबसाइट है जो सभी वेद पुराण पढने और डाउनलोड करने की सुविधा देवनागरी लिपि में दे रही है।
हमारी वेबसाइट के ५ माह  बाद पहला संस्कृत विकीपीडिया लेख दिनांक  को ०४:५४, २१ जनवरी २०१३‎ Suchetaav द्वारा लिखा गया था जो कानपुर शहर पर था।

 

प्रवेश पटलं

वार्ताः


श्री भवानी अष्टकम

 ॥**अन्नकूट महोत्सव की ह्रदय से हार्दिक शुभकामनाएं*

*श्री भ [ ... ]

अधिकम् पठतु
भगवान धनवंतरि कौन

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वन्त [ ... ]

अधिकम् पठतु
सप्तशती विवेचन

|| सप्तशती विवेचन ||
मेरुतंत्र में व्यास द्वारा कथित तीनो च [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस २०१७ विशेष

धनतेरस 2017 :-
यह पर्व प्रति वर्ष कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की  [ ... ]

अधिकम् पठतु
दीपावली के अचूक मंत्र...

🌻🌻दीपावली के अचूक मन्त्र 🌻🌻
दीपावली कि रात्रि जागरण कि  [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं- जानें धनतेरस पूजन वि...

©*धनतेरस पूजन विधि*
( घर में धन धान्य वृद्धि और सुख शांति के  [ ... ]

अधिकम् पठतु
उपमालङ्कारः

उपमालङ्कारस्तु एकः अर्थालङ्कारः वर्तते । 'उपमा कालिदासस [ ... ]

अधिकम् पठतु
रावणः

रावणः ( ( शृणु) (/ˈrɑːvənəhə/)) (हिन्दी: रावन, आङ्ग्ल: Ravan) रामायणस्य म [ ... ]

अधिकम् पठतु
शारदा देवी मंदिर

शारदा देवी मंदिर मध्य प्रदेश के सतना ज़िले में मैहर शहर म [ ... ]

अधिकम् पठतु
विंध्यवासिनी का इतिहास...

🔱जय माँ विंध्यवासिनी🔱* *विंध्यवासिनी का इतिहास* *भगवती  [ ... ]

अधिकम् पठतु
हकीकतरायः

हकीकतरायः कश्चन स्वतन्त्रसेनानी बालकः आसीत्, यः मुस्लिम [ ... ]

अधिकम् पठतु
भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (ISRO)...

भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (इसरो, आङ्ग्ल: Indian Space Res [ ... ]

अधिकम् पठतु
ऐतरेयोपनिषत्

ऐतरेयोपनिषत् (Aitareyopanishat) ऋग्वेदस्य ऐतरेयारण्यके अन्तर्गता  [ ... ]

अधिकम् पठतु
आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

Swaha आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

स्वाहा का म [ ... ]

अधिकम् पठतु
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवसर...

Importance of rakhi
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवस [ ... ]

अधिकम् पठतु
अन्य लेख