प्रस्तावना

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

 देववाणी विकास समूह रीवा म.प्र.

 

हमारी संस्कृत व ऊसका परिचय  जानने हेतु क्लिक करें

हमारे समूह में आप भी जुडकर देववाणी व देश का समुचित विकास व विश्वगुरू के लोकोक्ती सत्य कर अपना ज्ञान संसार में बांट कर आप गुरू व भारत को विश्व गुरू बनाने में सहयोग करे हम आपकी विद्या को सादर सम्मान के साथ जन-जन तक पहुचानें में मद्द करेंगें ।आप अपना कोई भी लेख ई-मेल द्वारा ही भेजिये व  आपकी इच्छानुसार आप अपनी फोटो व पूरा पता भेजकर अपना नाम भी प्रकाशित करवा सकते है ।

यह बेबसाइट संस्कृत भाषा के संगणकीय विकास हेतु बनाई गई है इसका नामकरण देववाणी इसीलिये रखा गया है

नोट- शिर्फ हिंदी और संस्कृत  दस्तावेज ही मान्य होंगे व किसी भी गैरकानूनी कंटेट रखवाने पर आप पर कार्यवाही की जा सकती है ।इसके लिये हम व हमारा ग्रुप जिम्मेदार नही होगा अतः आपसे विनम्र निवेदन है की इस बात को ध्यान में रखें । ज्यादा जानकारी के लिये यंहा पढें।Image descriptionProfessional Help

यदि आप अपनी विडियो व संस्कृत किताब हमारे माध्यम से इस साइट पर बेचना चाहते होतो संपर्क करे १ साल तक बिना किसी शुल्क के ये सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी और आपका दस्तावेज पूरी संभावित सुरक्षा के साथ यंहा रखी जायेगी ।

यह वेबसाइट १३ अगस्त २०१३ से पहले ८ नवंबर २०१२ में www.vindhyanchal.in के एक खंड के रूप में विकसित की गई थी बाद में इसको अधिकारिक रूप से www.devwani.in पर हास्टगाटर कंपनी की मद्द से प्रकाशित किया गया बाद में ये साल २०१४ में इसे ये प्रारूप devwani.org पर मिला।

कुछ पुरानी यादें
  
मेरी वेबसाइट vindhyanchal.in पर पहला संस्कृत लेख १३ अगस्त २०१२ को माता विंध्यवासिनी पर लिखा गया श्लोक और व्याख्या था बाद मे १४ अगस्त २०१२ को स्वतंत्रता दिवस पर लिखा गया था। तब ये पहली संस्कृत खंड इस वेबसाइट के संस्कृत संस्करण में बनाया गया था।और अगस्त २०१३ में देववाणी नाम से अधिकारिक नाम पर पब्लिश किया गया तब ये दुनिया की पहली संस्कृत वेबसाइट थी जो देवनागरी में लिखी गई थी और आज पहली ऐसी वेबसाइट है जो सभी वेद पुराण पढने और डाउनलोड करने की सुविधा देवनागरी लिपि में दे रही है।
हमारी वेबसाइट के ५ माह  बाद पहला संस्कृत विकीपीडिया लेख दिनांक  को ०४:५४, २१ जनवरी २०१३‎ Suchetaav द्वारा लिखा गया था जो कानपुर शहर पर था।

 

देववाणी एंड्रायड एप डाउनलोड

वार्ताः


ग्रहों की कुछ विशेष राशियों में अशुभ प्रकृति...

१-सूर्य कुंभ मे २-चंद्रमा मकर मे ३-मंगल तुला मे ४-शुक्र म [ ... ]

अधिकम् पठतु
११५ ऋषियों के नाम,जो कि हमारा गोत्र भी है...* ...

*११५ ऋषियों के नाम,जो कि हमारा गोत्र भी है...* =================================== च [ ... ]

अधिकम् पठतु
आपकी राशि के अनुसार शिव अर्चना...

आपकी राशि और शिव पूजा शिव पुराण में उल्लेख हैं की महाशिवर [ ... ]

अधिकम् पठतु
बुद्ध और ब्राम्हण

बुद्ध और ब्राह्मण मूलनिवासी अकसर ब्राह्मणों को कोसते है [ ... ]

अधिकम् पठतु
सोमवार के ही दिन शिव की पूजा क्यों करते हैं जानें ...

🌿🌸🍃🌺🌿🌸🍃🌺🌿🌸🍃 *क्यों सोमवार" को ही *भगवान शिव की पूजा कर [ ... ]

अधिकम् पठतु
जानें महाशिवरात्री का वैज्ञानिक पहलू एवं छ्मा मंत्...

💐✍💐 *जानें महाशिवरात्रि का वैज्ञानिक पहलू और क्षमा मन्त [ ... ]

अधिकम् पठतु
रावण पराजय और सीता हरण क्यों...

*“ रावण - पराजय और सीता - हरण क्यों ?
“* नारायण ! श्रीमद् देवीभ [ ... ]

अधिकम् पठतु
महाशिवरात्री व्रत कथा...

महा देव औरशिवरात्रि जप तप ब्रतकी कथा पूर्व काल में चित्रभ [ ... ]

अधिकम् पठतु
एक रोचक कथा - पंडित अजय भारद्वाज द्वारा...

हमारे मन में बहुत बार यह ख्याल आता है कि क्या वो मालिक/ भगव [ ... ]

अधिकम् पठतु
महाशिवरात्रि 2018: तिथि को लेकर संशय दो तारीखों मे...

महाशिवरात्रि 2018: तिथि को लेकर संशय, कब निकलेगी भोलेनाथ की ब [ ... ]

अधिकम् पठतु
कमला सोहोनी

कमला सोहोनी १०१२ तमे वर्षे अजायत । तस्याः पिता नारायणराव [ ... ]

अधिकम् पठतु
कर्कटी (राक्षसी)

ब्रह्मवादिनीषु काचित् राक्षसी अपि अस्ति । सा तपः प्रभाव [ ... ]

अधिकम् पठतु
कपिलः (ऋषिः)

ऋषिः कपिलः सांख्यदर्शनस्य प्रवर्तकः अस्ति । भागवतपुराण [ ... ]

अधिकम् पठतु
कनकदासः


कनकदासः (Kanaka Dasa) श्रेष्ठः कीर्तनकारः । (Kannada:ಕನಕದಾಸರು)कर्णाटक [ ... ]

अधिकम् पठतु
कठसंहिता

कठसंहिता यजुर्वेदस्य सप्तविंशति-शाखासु अन्यतमाऽस्ति ।  [ ... ]

अधिकम् पठतु
अन्य लेख