इतिहास ले रहा है करवट

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

‬: अब इंदिरा गांधी इंटरनेशल एयरपोर्ट का नाम भी बदला जाए

मोदी जी फुल तेयारी करके आए है नेहरु खानदान के नामो निशान मिटाने की.‬: देश की जनता जानना चाहती है की नेताजी के द्वारा इकठे किये गए रूपये जिसको अंग्रेजो के खिलाफ इस्तेमाल होना था,वो नेहरू के पास कैसे पहुंचे और उसी समय नेताजी कैसे गायब हुए‬: अपनी उम्र के छह दशक पूरा कर चुका एक शख्स 125 करोड़ हिंदुस्तानियों का रहनुमा बन जाता है। 4 घंटे सोता है, एक पैर से दुनिया नाप देता है, इससे मिलता है उससे मिलता है सबसे मिलता है। 67 साल से सोये हुए गूंगे और बहरे लोगो को नींद से जगा देता है॰ पर उसे इस बात का अंदाज़ा ही नहीं की ये थके-हारे लोग हैं, ये मरे हुए लोग हैं। जो उन्हे 67 साल मे नहीं मिला उन्हें वही सुबह-सुबह बेड-टी के साथ चाहिए।

आपने बिलकुल सही अंदाज़ा लगाया, ये मोदी की ही बात चल रही है। पिछले 14 महीने से दुनिया के हर बड़े मुल्क मे सिर्फ इसी शख्स की चर्चा है। आप उसकी यात्रा के खर्चे जोड़ें या किलोमीटर यात्राओं का हिसाब लगाएं, अगर आपके मुल्क ने दुनिया के हर कोने में दस्तक दी है, तो उसका श्रेय उसे देना बनता ही है॰ वरना आपको लोग बस कश्मीर, ताजमहल और निर्भया के लिए ही याद करते हैं॰ दुनिया का हर बड़ा छोटा मुल्क और उसको चलाने वाले आज मोदी स्टाइल के मुरीद हैं। पैसे वाले उद्योगपति हो या राज करने वाले नेता, सब टीम मोदी और उनके विज़न के कायल हैं।

नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान के उन चुनिन्दा सांसदों में से हैं, जिन्हे एक साथ एमपी और पीएम बनने का सौभाग्य नसीब हुआ। उन्हें दिल्ली की राजनीति और उसके अंदरखाने दाव-पेंचों का बिलकुल ज्ञान नहीं था, एक बेहद ही गरीब तबके से चला इंसान देश की सबसे बड़ी कुर्सी पर नशी हुआ, उसने पिछली सरकारों की सदियों पुरानी रवायतों को बदलने का वादा किया और सपना दिखाया, और लोगों ने इस सपने को हाथों-हाथ लिया।

पीएमओ के नये सरताज ने आते ही 6 महीने के भीतर ही जाने कितनी योजनाओं की दूकान सजा दी, और रास्ते खोल दिए। पर मुश्किलें तो अब शुरू हुई थीं। दिल्ली की हार और 10-लाख के सूट का झंझट नए साल मे उसे गले लगाने को बेताब था। खुद को बिज़नेस फ्रेंडली दिखाने की अति महत्वाकांक्षा ने उन्हे बैकफुट पर धकेल दिया।

कम बारिश और किसानों की खुदकुशी ने उसके चेहरे की शिकन को और गहरा कर दिया। उसके लैंड बिल को भी किसानों के खिलाफ बताकर उसे हराने की कोशिश होती रही और कमाल देखिए उस पर एंटी- किसान होने का तंज़ उस पार्टी ने कसा जिसने 67 साल में किसानों को कही का नहीं छोड़ा। पर वो मोदी ही क्या जो मैदान छोड़ दे। मोदी ने अपने जज्बे को वापस समेट कर पलटवार का बिगुल फूंक ही दिया।

सरकार ने अपना लैंड बिल वापस ले लिया क्योंकि उसे पता था कांग्रेस उसे पास नहीं होने देगी। नई लैंड पॉलिसी का जिम्मा उसने राज्य सरकारों को देकर कांग्रेस के गुरिल्ला युद्ध का तोड़ निकाल ही दिया, विपक्ष के शोरगुल वाली नीति का जवाब उसने अपने फेडरल विज़न से देने का इरादा कर लिया।

अभी बस थोड़ा ही वक़्त गुज़रा है और हमे एक सशक्त प्रधानमंत्री के होने के एहसास होने लगा है। किसी को आते ही सुपरमैन समझ लेना जल्दबाज़ी होती है और जनता किसी भी देश की हो जल्दबाज़ ही होती है, सब्र तो उसने सीखा ही नहीं होता।

भारत जैसे वृहद लोकतंत्र में चीजें मुश्किल है और पूरा होने मे समय लेती हैं। मोदी दिल्ली की राजनीति के लिए नये हैं और अभी सीख रहे हैं। उनका लैंड बिल का वापस लेना साबित करता है, कि वे जल्दी सीखने वाले शख्स हैं, लेकिन, आज की तारीख में उन्हें एक तेज़ तर्रार सलाहकार चाहिए जो उन्हें एफटीआईआई और वन रंक वन पेंशन जैसी बिन बुलाई मुसीबतों से आगाह करे।

15 महीनों का उनका अब तक का राज़काज देश को ये संदेश देने लगा है की वो एक मॉडरेट-कंजर्वेटिव प्रशासक हैं। वो संवैधानिक संस्थाओं के मूल आधार में किसी परिवर्तन के पक्षधर नहीं है, पर चाहते हैं कि वो संस्थाएं और बेहतर काम करें। वे एक जुनूनी दक्षिणपंथी सुधारक की छवि वाले नेता नहीं है और उद्योगों के निजीकरण का कभी पक्ष नहीं लेते। वो बस यही चाहते हैं कि सार्वजनिक उपक्रम और बेहतर काम करें और ये तभी हो सकता है जब अधिकारी काम करें।

आप धीरज धरिए, आप लालू राज में नहीं हैं, मोदी राज में हैं। आपका देश दुनिया की सबसे तेज़ बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है। मुद्रास्फीति की दर सबसे कम है और कारोबार करना आसान होने लगा है। अच्छे दिनों की आहट ऐसी ही तो होती है।

प्रवेश पटलं

वार्ताः


श्री भवानी अष्टकम

 ॥**अन्नकूट महोत्सव की ह्रदय से हार्दिक शुभकामनाएं*

*श्री भ [ ... ]

अधिकम् पठतु
भगवान धनवंतरि कौन

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वन्त [ ... ]

अधिकम् पठतु
सप्तशती विवेचन

|| सप्तशती विवेचन ||
मेरुतंत्र में व्यास द्वारा कथित तीनो च [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस २०१७ विशेष

धनतेरस 2017 :-
यह पर्व प्रति वर्ष कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की  [ ... ]

अधिकम् पठतु
दीपावली के अचूक मंत्र...

🌻🌻दीपावली के अचूक मन्त्र 🌻🌻
दीपावली कि रात्रि जागरण कि  [ ... ]

अधिकम् पठतु
धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं- जानें धनतेरस पूजन वि...

©*धनतेरस पूजन विधि*
( घर में धन धान्य वृद्धि और सुख शांति के  [ ... ]

अधिकम् पठतु
उपमालङ्कारः

उपमालङ्कारस्तु एकः अर्थालङ्कारः वर्तते । 'उपमा कालिदासस [ ... ]

अधिकम् पठतु
रावणः

रावणः ( ( शृणु) (/ˈrɑːvənəhə/)) (हिन्दी: रावन, आङ्ग्ल: Ravan) रामायणस्य म [ ... ]

अधिकम् पठतु
शारदा देवी मंदिर

शारदा देवी मंदिर मध्य प्रदेश के सतना ज़िले में मैहर शहर म [ ... ]

अधिकम् पठतु
विंध्यवासिनी का इतिहास...

🔱जय माँ विंध्यवासिनी🔱* *विंध्यवासिनी का इतिहास* *भगवती  [ ... ]

अधिकम् पठतु
हकीकतरायः

हकीकतरायः कश्चन स्वतन्त्रसेनानी बालकः आसीत्, यः मुस्लिम [ ... ]

अधिकम् पठतु
भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (ISRO)...

भारतीय-अन्तरिक्ष-अनुसन्धान-सङ्घटनम् (इसरो, आङ्ग्ल: Indian Space Res [ ... ]

अधिकम् पठतु
ऐतरेयोपनिषत्

ऐतरेयोपनिषत् (Aitareyopanishat) ऋग्वेदस्य ऐतरेयारण्यके अन्तर्गता  [ ... ]

अधिकम् पठतु
आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

Swaha आहुति के दौरान “स्वाहा” क्यों कहा जाता है?...

स्वाहा का म [ ... ]

अधिकम् पठतु
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवसर...

Importance of rakhi
वैदिक ब्राह्मणों को वर्ष भर में आत्मशुद्धि का अवस [ ... ]

अधिकम् पठतु
अन्य लेख